पैर की अँगुलियाँ देखकर चुनें पत्नी या वधू



पैर की अँगुलियाँ देखकर चुनें पत्नी या वधू

 बहुत कुछ बता देती हैं औरत के पैरों की अँगुलियाँ !   अंगलक्षण बहुत ही पुराना  विज्ञान है ! इतना पुराना की आदि ग्रंथ रामायण में महर्षि वाल्मीकि ने सैकड़ों अंग लक्षणों  का उल्लेख किया है ! जब मेघनाद ने भगवान राम और लक्ष्मण को अचेत कर दिया था ! तब रावण सीता जी को उन्हें दिखाने ले गया यह बताकऱ की उनकी मृत्यु हो गयी है ! इस पर सीता जी ने अपने स्वयं के अंग लक्षणों का उल्लेख करके या कहा था की उनके इन अंग लक्षणों को देखकर ज्योतिषियों ने ऐसी कोई आन होनी नही बताई थी ! पर आज वे सारी भविष्यवाणियाँ मिथ्या साबित हो गयीं ! उन्होने कहा कि उनके पैरों की दासों उंगलियाँ और दोनों तलवे ये बारहों पृथ्वी से अच्छी तरह सात जाते हैं !   “मॅमवर्णोंमणिनिभोमृड़युनयांगरूहाणीचा प्रतिष्ठितामद्वाड़षाभिरमामूचूहशुभलक्षनाम ”     पैरकी  उंगलियों से स्त्री के कुछ लक्षण निम्न्वत हैं !      * जिस स्त्री के पैर की तर्जनी उंगली (अंगूठे के तुरंत बाद वाली ) अंगूठें से आगे निकल जाए या       अंगूठे से बड़ी हो उस स्त्री का विवाह से पहले या विवाह के बाद पर पुरुष से संबंध बनने की संभावना होती है ! कभी कभी ऐसी स्त्रियाँ बहुत खूबसूरत भी होती हैं पर हमेशा नहीं !   – बृहतपाराशर होरशास्त्र , भविष्य महापुराण    *जिस स्त्री के पैर की मध्यमा और अनामिका अर्थात तीसरी और चौथी उंगली भूमि को स्पर्श ना करे वह स्त्री पतिहीन होती है !                                                            –  बृहतपाराशर होरशास्त्र , भावकुतूहलम   * यदि स्त्री के पैर की अनामिका और मध्यमा अर्थात चौथी और तीसरी अंगुली छोटी हो तो उसे पति का सुख नही मिलता – भा.कु. , भ.पु   * जिस स्त्री के पैरों की अनामिका अर्थात चौथी या पाँचवी अंगुली भूमि पर ना टिकती हो अथवा अंगूठे से बराबर वाली अंगुली अंगूठे से लंबी हो वह औरत अन्य मर्दों से संबंध रखती है और पाप आचरण करती है !   गरूण पुराण ,     * बहुत लंबी अँगुलियाँ चरित्र्हीन होने का एवं बहुत पतली अँगुलियाँ निर्धन होने का संकेत देती हैं ! बृहतपाराशर होरशास्त्र,   * स्त्री के पैर की अंगुलियों से एक संकेत सबसे बुरा होता है कि यदि स्त्री के पैर की अँगुलियन परस्पर एक दूसरे पर चढ़ी हो तो ऐसी स्त्री पति को छोड़ देगी और दूसरे काई अन्य मर्दों से संबंध बनाएगी !   * छोटी और विरल अँगुलियाँ (fingers having space) निर्धानता का संकेत देती हैं ! भ.पु   * पैर की अँगुलियाँ कोमल ,सीधी , सटी हुई हों, गोल हों , मांसल हों , चिकनी हों और छोटे नाखूनों से युक्त हों तो अत्यंत शुभ लक्षण होता है !  भ.पु , बृहतपाराशर होरशास्त्र      Published inOther Than Astrology Palmistry, Numerology And More…



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *