My Cart:
Total 0.00 ₨
 x 

Your shopping cart is empty!

Total 0.00 ₨
Thursday, 30 August 2018 08:56

वास्तु - चारों दिशाओं में कहां हो आपका मुख्य द्वार (गेट) !

Written by
Rate this item
(1 Vote)
मेरा उक्त लेख " INDIASPEAKSDALY.COM में पूर्व में ही छप चुका है ! हूबहू वही लेख अपनी वेबसाइट पर डाल रहा हूँ ! किसी भी घर या व्यावसायिक प्रतिष्ठान में यदि सबसे अधिक अच्छा या बुरा प्रभाव किसी का पड़ता है तो वह होय प्रवेश द्वार ! क्योंकि एक दिशा के 8 हिस्से होते हैं ! तो उन आठों में कुछ ही हिस्से या दिशा क्षेत्र शुभ होते हैं ! इन आठ दिशा क्षेत्रों में तो कुछ बहुत ही अशुभ और दुर्घटनकारक होते हैं !  आइये विश्लेषण करते हैं चारों दिशाओं  के मुख्य द्वारों के शुभ अशुभ हिस्सों के विषय मे चित्र के माध्यम से ! चित्र में E1,W2,N1,S8 का अर्थ है E1-पूर्व का पहला दिशा क्षेत्र,WE का अर्थ हुआ पशिम दिशा क्षेत्र का दूसरा भाग,N1 का अर्थ हुआ उत्तर का पहला हिस्सा और S8 का अर्थ हुआ दक्षिण का आठवां हिस्सा ! 1-पूर्व - E3- बहुत ही शुभ,खूब लाभ,जबरदस्त धनागम तथा लाभ ही लाभ ! E4- ऐसों घरों के लोगों को सरकार/सरकारी अधिकारियों से खूब लाभ होता है ! धन प्राप्ति का भी कारक है ! पूर्व दिशा में 8 में से सिर्फ यही 2 क्षेत्र शुभ है ! बाकी में यदि आप का में गेट है तो फिर आप स्वयं अनुभव कर सकते हैं ! जैसे SE क्षेत्र में फिजूल खर्चे बहुत होंगे और ज्यादातर कन्या संतानें ही पैदा होंगी ! इसके अलावा बाकी सभी 5 दिशायें हर तरह से प्रतिकूल ही हैं ! सबसे खराब E8 है ! यहां का द्वार चोरी, गंभीर दुर्घटनाओं नुकसान खासकर निवेश या शेयर में 2- पश्चिम - W3 - खूब विकास एवं साम्पन्नता का कारक,अविश्वसनीय सफलता एवं समृद्धि ! W4- ना लाभ ना हानि,संतुष्ट जीवन ! उपरोक्त के अतिरिक्त शेष 6 जोन बिल्कुल भी शुभ नहीं हैं ! जैसे W6 में जबरदस्त डिप्रेशन, W1 में आयु एवं धन की कमी !  उत्तर- N3- पुत्र लाभ,नए नए अवसरों मौकों से धन लाभ,जबरदस्त धन लाभ और लगातार धन की वृद्धि ! अर्थात ये सबसे अच्छा क्षेत्र हुआ ! N4- धन के मामले में बहुत ही अच्छा दिशा क्षेत्र ! पूर्वजों से तथा आकस्मिक धन लाभ ! N8- खूब सेविंग्स , इस घर वाले लगातार प्रगति करते हैं ! इसके अलावा शेष पांचों क्षेत्र अशुभ ही हैं ! जैसे N1 वाले दुश्मनों से ही परेशान रहेंगे ! नए नए दुश्मन पैदा होंगे ! जान का खतरा बम रहेगा,दुश्मन हमले करवाएंगे ! N2 - बुरी नज़र औऱ ईर्ष्या से हानि ! N6 - घर वालों के व्यवहार विचियर से होंगे ! लोग उनसे दूरियां बना लेते हैं ! N7- इन घरों की लड़कियां परंपराओं से परे हो जाती हैं ! माँ बाप से दूरी और गलत संगत में पड़ सकती हैं तथा ज्यादातर विजातीय विवाह कर लेती हैं जो टूट जाती हैं ! 4-दक्षिण S2- ऐसे घरों वाले व्यापार से दूर रहें पर मल्टीनेशनल कंपनीज़ में काम करने वालों के लिए जबरदस्त फायदेमंद ! S3-अत्यंत प्रभावशाली होते हैं ऐसे घरों में रहने वाले लोग ! सफलता के लिए अच्छा बुरा सब करते हैं और जीवन मे खूब सफल होते हैं ! S4- ऐसे घरों में पुरुष संताने ही ज्यादा जन्म लेती हैं ! इंडस्ट्री फैक्ट्रीज में काम करने वालों के लिए खूब अनुकूल ! इन तीन दिशा क्षेत्रों के अलावा शेष अशुभ ही हैं ! जैसे S1 क्षेत्र वाले घरों में 14 साल से कम आयु के पुरुष संतानों के बिगड़ने या deviant व्यवहार करने की संभावनाएं ज्यादा रहती है ! ड्रग्स या शराब की लत लग सकती है ! माता पिता से कम निभती है ! S5- कर्ज से लदा होता है ये घर ! कर्ज से छुटकारा ही नहीं मिलता ! भवन निवासी अपने विवेक का प्रयोग उचित रूपसे नहीं कर पाते हैं ! S6- ऐसे भवन इतने अशुभ होते हैं कि नुकसान और हानियों की वजह से ऐसे भवन बिक तक जाते हैं ! S8- जीवन पर खतरा, धन तथा संबंधों की हानि ! ऐसा व्यक्ति अपने खानदान या रिश्तेदारों से पूरी तरह कट जाता है !  ऊपर लिखे विवरण को ऐसे ही आंखें मूंद कर ना माने ! अपने आसपास और दूरदराज के भवनों के मुख्य द्वारों को देखें और परीक्षण करें ! सुशील कुमार सिंह (ज्योतिष सदन फ़ैज़ाबाद(अयोध्या) Whatsapp 9125000013, Phone - 7985517269 www.astrosushil.com , This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.  
Read 196 times
Login to post comments