Services are only available on call. No written reports will be shared due to busy schedules!

Services From This Website Will Be Entertained Only On Telephonic Conversations. No Written Reports Will Be Shared Due To Busy Schedules!





Call: +91-9125000031   WhatsApp: +91-9125000013

My Cart:
Total 0.00 ₨
 x 

Your shopping cart is empty!

Total 0.00 ₨
Sushil Kumaar Singh

Sushil Kumaar Singh

Email: This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.
कुंडलीमिलान का पारंपरिक तरीका कितना सफल और कितना तार्किक है ! -    कब प्रारम्भ हुआ कुंडली मिलान :-    प्राचीन या वैदिक काल में हिन्दू लोग ज्योतिष और एस्ट्रोनॉमी से पूरी तरह परिचित होने के बावजूद विवाह में किसी भी प्रकार के ज्योतिष , गुण मिलान आदि का प्रयोग नहीं करते थे ! कालांतर में सूर्य का उत्तरायण होना और शुक्ल पक्ष की तिथि होना जैसी बातों से विवाह संस्कार में ज्योतिष का प्रवेश हुआ ! मशहूर इतिहासकार डॉ राजबली पांडे ने अपनी पुस्तक "हिन्दू संस्कार" में इसका व्यापक उल्लेख करते हुए लिखा है कि सूर्य के उत्तरायण और शुक्ल पक्ष के साथ विवाह में अन्य ज्योतिषीय गड़नाओं का प्रयोग होना धीरे धीरे शुरू हुआ ! पर आज की तरह ही वर वधु की कुंडलियां मिलाने की तार्किक प्रक्रिया ना शुरू होकर गुण मिलान शुरू हुआ ! जो कि नाक्षत्रों पर आधारित था,नक्षत्र क्यों कि 23 घंटे 56 मिनट अर्थात पूरे एक दिन का होता है या एक दिन पूरे 24 घंटे एक ही नक्षत्र रहता है ! तो पंचांग से वर और वधू की पैदाइश के विशेष दिन का( ना कि समय का ) नक्षत्र से मिलान किया जाने लगा ! एक नक्षत्र का दूसरे नक्षत्र से कितनी मैत्री है उसको कुछ पॉइंट्स दिए जाने लगे जैसे 18 गुण 26 गुण आदि ! यह बहुत सरल था क्योंकि जन्म समय की अनुपलब्धता के कारण यह पद्धति धीरे धीरे प्रचलन में आ गयी ! आगे चलकर इसमे मंगल दोष सहित अन्य दोष तथा उसका परिहार भी जोड़ दिया और उसे व्यावसायिक रूप दे दिया गया ! पर सोचने वाली बात यह है कि नौ ग्रह और एक लग्न अर्थात 10 में से हैम केवल चंद्रमा और उसके नक्षत्र को देखते हैं जो कि 10 बिंदुओं में से सिर्फ 10% पर ही हम विचार करते हैं ! इसके अलावा कुंडली उसकी दशाएं उसमे वैवाहिक सुख पति पत्नी की आयु (Longevity) , उनकी साम्पन्नता विपन्नता भावनात्मक लगाव आने वाले समय मे त्याग परित्याग , संतान सुख आदि का ध्यान ही नही दिया जाता था ! तो निष्कर्ष में यह निकालता हुन कि पारंपरिक गुण मिलान उनके लिए है जिनके पास उनका जन्म समय ज्ञात ना हो ! जिनके पास उनका जन्म समय ज्ञात हो वे गुण मिलाना छोड़ कुंडली मिलाएं, अगर कुंडली मिल गयी तो विवाह के सुखी होने के 90% संभावनाएं रहेंगी ! और पाठकों की जानकारी के लिए बात दूं कि जन्म समय पर आधारित वास्तविक कुंडली मिलान की यह प्रक्रिया मात्र कुछ वर्षों से शुरू हुई है ! और दुख के साथ कहना पड़ रहा है कि इसकी पहुंच कुछ जागरूक और सुविधा भोगी वर्ग तक ही सीमित है !यह प्रक्रिया आज की हिन्दू ज्योतिष ने इतनी प्रगति कर ली है कि ज्यादा मेहनत करके घटनाओं के माध्यम से तथा हथेली और अंगूठे देख कर वास्तविक समय तक निकाल लिया जाता है ! क्योंकि यह बहुत हेक्टिक और टाइम टेकिंग है तो जो इस विद्या को जानते हैं वह समयाभाव में इससे दूर रहते हैं ! मैं स्वयं कम ही हॉरोस्कोप रेक्टिफिकेशन का काम लेता हूँ समयाभाव के कारण ! काम से कम 5 से 10 घंटे पूरे चाहिए होते हैं !    एक IPS और एक IAS के वैवाहिक जीवन से त्रस्त आत्महत्या तथा कुण्डलीमिलान का संबंध :-   अब आते हैं 09 सितंबर 2018 को आत्महत्या करके दिवंगत हुए IPS सुरेंद्र दास जी के विषय पर जो  नवोदय विद्यालय के छात्र थे जिसका कभी मैं भी छात्र था,फ़ैज़ाबाद जवाहर नवोदय विद्यालय का ! कुछ माह पहले IPS मुकेश पांडे जी भी ट्रेन से कट कर मरे थे ! कारण दोनों मे वही पत्नी से मेल ना खाना ! जानकारी के अनुसार दोनों की कुण्डलियां मिलाई गयी थी ! पर उसी तरह से,नक्षत्र चरणों से अर्थात राशि के नाम से ! जैसे आज 80% मामलों में हो रहा है ! हालाकी एक आधुनिक समाज भी तैयार हो रहा है जो नये शोधों से लैस पद्धतियों को फॉलो कर रहा है और सुखी भी है ! तो जैसा कि मैने फसबुक पर तीन संक्षिप्त शृंखलाओं मे कहा कि इस तरह से शादियों के गुण मिलान का कोई अर्थ नही जैसे सुबह अख़बार में या टी.वी में राशिफल पढ़ने का कोई अर्थ नही ! मिलाना है तो दोनों की कुण्डलियां अलग अलग दो भिन्न भिन्न अस्तित्वों का मिलान करिए ! ना कि रोहिणी नक्षत्र के लड़के का मघा नक्षत्र की लाड़की से ! कुण्डलियां बहुत कुछ बता देंगी ! अगर आप ज्योतिष् को मानते हैं तो दोनों कुण्डलियां आपस मे मिल रही हैं तो शादी करिए नहीं तो दोनों दूसरे रास्ते खोजें  ! इस 36 गुण और मांगलिक के चक्कर में मैने सैकड़ों घर बर्बाद होते देखे हैं ! ऐसा मैं ही नहीं फॉलो करता विश्व में हिंदू भारतीय ज्योतिष् के सबसे बड़े हस्ताक्षर श्री के.एन राव सर भी यही मानते हैं ! IPS साधु किस्म के ईमानदार और भक्त व्यक्ति थे ! जाहिर है शाकाहारी भी थे ! पत्नी जन्माष्टमी को घर में माँस खाती है तो कैसे पटेगी ! यह सामान्य घटना नहीं है ! यही तो गुणमिलान है ! एक मनुष्य की राक्षस से कितनी पटेगी ! यह बाते तो कुंडली देखे बिना भी समझी जा सकती थी ! कुंडली मिलाइए पर आधुनिक और वैज्ञानिक तरीके से ! पहले Longevity अर्थात उम्र देखिए ! ज्योतिषी को यह देखना चाहिए कि दोनों मे से कोई अल्पायु तो नहीं है ! 2. फिर भावनायें या गुण मिलायें अर्थात दोनों की आदतें मिलती है कि नही साथ में दोनों में भावनात्मक लगाव रहेगा या नहीं ! यहाँ IPS के केस में  यही सब तो हुआ ! 3. फिर Prosperity अर्थात संपन्नता देखिए कि दोनों कुंडलियों में किसी एक में रोज़ी रोटी का संकट तो नहीं है ! चौथा और अंतिम संतान योग देखिए ! ....शेष बातें फिर कभी    सुशील कुमार सिंह (टाइम्स ऑफ इंडिया पैनेल के ज्योतिषी ) Contact - 7985517269 Whatsapp - 9125000013 www.astrosushil.com ज्योतिष् सदन फ़ैज़ाबाद (अयोध्या)  
भारतीय हिन्दू ज्योतिष यह भी बताने में सक्षम है कि चुनाव में कौन जीतेगा तो वह यह भी बताने में सक्षम है कि चुनाव कब होंगे ! कुछ वरिष्ठ ज्योतिषियों ने 1989 के तथा दो अन्य लोकसभा चुनावों का समय बता दिये थे ! मैंने एक राष्टीय समाचार पत्र के लिए 2009 के चुनावों का समय बताया था ! चुनाव संबंधित भविष्यवाणी में सबसे बड़ी अड़चन नेताओं का जानबूझ कर गलत जन्म विवरण देना तथा भाजपा कांग्रेस शिवसेना के अतिरिक्त किसी बड़ी पार्टी की वास्तविक कुंडली की अनुपलब्धता भी है ! वैसे मेरे पास समाजवादी पार्टी की कुंडली उनके एक बड़े नेता द्वारा दी गयी हुई है पर समयाभाव में मैंने उसपर काम नहीं किया !   क्या है चुनावों की तारीख बताने का ज्योतिषीय सिद्धांत :   पहली स्थिति में राहु की एक विशेष स्थिति में ही चुनाव होते हैं ! यह शोध अभीतक सम्पन्न हर आम चुनाव पर लागू हुआ है !   दूसरी स्थिति में मंगल चुनाव /पोलिंग के दिन कभी भी द्विस्वभाव राशियों अर्थात मिथुन, कन्या धनु तथा मीन राशि में नहीं था !    तीसरी स्थिति में सभी तो नहीं पर कुछ   आम चुनावों में शनि या बृहस्पति वक्री थे !   चैथी स्थिति में लगभग 50% केसेज़ में शनि द्विस्वभाव राशियों अर्थात मिथुन ,कन्या,धनु तथा मीन राशियों को जैमिनी दृष्टि से देखता है !   पाँचवी स्थिति में ज्यादातर केसेज़ में भारत की स्वतंत्रता तथा गणतंत्र की कुंडलियों के दसवें,चौथे,पहले,आठवें, ग्यारहवें तथा छठे भाव पर किसी पाप ग्रह की जैमिनी दृष्टि अवश्य पड़ रही थी !  दसवाँ घर सत्तारूढ़ दल और प्रधानमंत्री का नेतृत्व करता है ! चौथा भाव विपक्ष तथा राज्यसभा को प्रदर्शित करता है ! ग्यारहवां भाव संसद द्वारा नए कानून बनाने तथा चुनाव आयोग द्वारा चुनावों की अधिसूचना जारी करने का प्रतिनिधित्व करता है ! छठा भाव मतदाता क्षेत्र तथा प्रत्याशियों की लड़ाई या यूं कहिये कि हार या जीत का होता है ! पहला और आठवाँ घर चुनावों की घोषणा के बाद जनता तथा नेताओं के बीच के चुनावी बुखार और हलचल का प्रतिनिधित्व करता है !   अब यदि जैमिनी ज्योतिष के उपरोक्त सिद्धांतो को ध्यान में रखा जाय तो सिर्फ तीसरा सिद्धांत इस बार की मेरे द्वारा निकाली गई तारीखों पर लागू नहीं हो रहा है ! शेष चारों सिद्धांत पूरी तरह से लागू हो रहे हैं !   तो क्या समय से पहले होंगे 2019 के चुनाव :   उपरोक्त बताये गए जैमिनी दृष्टिकोण से आम चुनाव थोड़ा पहले हो सकते हैं अर्थात 23 मार्च के पूर्व ! जबकि सामान्य तौर पर इसे अप्रैल या मध्य मई तक सम्पन्न होने चाहिए ! पहले नियम के अनुसार राहु चर राशि "कर्क" में 23 मार्च तक रहेगा ! यहां राहु के वास्तविक गोचर की बात हो रही है ! जिसे ट्रू राहु ट्रांजिट भी कहते हैं ! अन्यथा दूसरे मत के अनुसार राहु 7 मार्च को ही कर्क राशि छोड़कर मिथुन में प्रवेश कर जाएगा ! पर अधिकतर ज्योतिषी 23 मार्च के गोचर को ही महत्वपूर्ण मानते हैं ! तो पहले सिद्धांत के अनुसार चुनाव 23 मार्च के पहले सम्पन्न हो जाने चाहिए ! और एक संभावना यह भी है कि चुनाव शरू होने के बाद कुछ बड़े विवाद हो और कुछ दिनों के लिए चुनाव तिथियां आगे बढ़ा दी जाय कुछ फेज हो जाने के बाद ! इन विषयों पर कुछ गंभीर शोध की आवश्यकता है ! पर ज्यादा संभावना 23 मार्च के पहले चुनाव सम्पन्न होने की लगती है ! दूसरे सिद्धांत के अनुसार  06 फवरी से 07 मई तक मंगल द्विस्वभाव राशि में नहीं रहेगा और 06 फवरी से 22 मार्च तक स्वतंत्रता की कुंडली के चौथे और दशवें घर को जैमिनी दृष्टि से देखेगा ! तथा 22 मार्च से 07 मई तक मंगल चौथे,दसवें,पहले,ग्यारहवें, छठवें तथा आठवें भाव या स्वामियों को देखेगा !  तीसरी स्थिति लागू नहीं है क्योंकि शनि और बृहस्पति अप्रैल में वक्री होंगे तो ऐसा भी जो सकता है कुछ फेज होकर चुनाव के कुछ फेज बाद में हों ! चौथी स्थिति के अनुसार शनि सभी द्विस्वभाव राशियों को देख रहा है ! पांचवीं स्थिति भी पूर्ण रूप से लागू हो रही है पर सिर्फ दो दिनों के लिए तो ऐसा हो सकता है कि चुनाव आयोग की राजनीतिक पार्टियों से कुछ विवाद हो कुछ फेज थोड़े अंतराल पर हों ! ज्योतिष् सदन फ़ैज़ाबाद अयोध्या 7985517269, Whatsapp - 9125000013  
मेरा उक्त लेख " INDIASPEAKSDALY.COM में पूर्व में ही छप चुका है ! हूबहू वही लेख अपनी वेबसाइट पर डाल रहा हूँ ! किसी भी घर या व्यावसायिक प्रतिष्ठान में यदि सबसे अधिक अच्छा या बुरा प्रभाव किसी का पड़ता है तो वह होय प्रवेश द्वार ! क्योंकि एक दिशा के 8 हिस्से होते हैं ! तो उन आठों में कुछ ही हिस्से या दिशा क्षेत्र शुभ होते हैं ! इन आठ दिशा क्षेत्रों में तो कुछ बहुत ही अशुभ और दुर्घटनकारक होते हैं !  आइये विश्लेषण करते हैं चारों दिशाओं  के मुख्य द्वारों के शुभ अशुभ हिस्सों के विषय मे चित्र के माध्यम से ! चित्र में E1,W2,N1,S8 का अर्थ है E1-पूर्व का पहला दिशा क्षेत्र,WE का अर्थ हुआ पशिम दिशा क्षेत्र का दूसरा भाग,N1 का अर्थ हुआ उत्तर का पहला हिस्सा और S8 का अर्थ हुआ दक्षिण का आठवां हिस्सा ! 1-पूर्व - E3- बहुत ही शुभ,खूब लाभ,जबरदस्त धनागम तथा लाभ ही लाभ ! E4- ऐसों घरों के लोगों को सरकार/सरकारी अधिकारियों से खूब लाभ होता है ! धन प्राप्ति का भी कारक है ! पूर्व दिशा में 8 में से सिर्फ यही 2 क्षेत्र शुभ है ! बाकी में यदि आप का में गेट है तो फिर आप स्वयं अनुभव कर सकते हैं ! जैसे SE क्षेत्र में फिजूल खर्चे बहुत होंगे और ज्यादातर कन्या संतानें ही पैदा होंगी ! इसके अलावा बाकी सभी 5 दिशायें हर तरह से प्रतिकूल ही हैं ! सबसे खराब E8 है ! यहां का द्वार चोरी, गंभीर दुर्घटनाओं नुकसान खासकर निवेश या शेयर में 2- पश्चिम - W3 - खूब विकास एवं साम्पन्नता का कारक,अविश्वसनीय सफलता एवं समृद्धि ! W4- ना लाभ ना हानि,संतुष्ट जीवन ! उपरोक्त के अतिरिक्त शेष 6 जोन बिल्कुल भी शुभ नहीं हैं ! जैसे W6 में जबरदस्त डिप्रेशन, W1 में आयु एवं धन की कमी !  उत्तर- N3- पुत्र लाभ,नए नए अवसरों मौकों से धन लाभ,जबरदस्त धन लाभ और लगातार धन की वृद्धि ! अर्थात ये सबसे अच्छा क्षेत्र हुआ ! N4- धन के मामले में बहुत ही अच्छा दिशा क्षेत्र ! पूर्वजों से तथा आकस्मिक धन लाभ ! N8- खूब सेविंग्स , इस घर वाले लगातार प्रगति करते हैं ! इसके अलावा शेष पांचों क्षेत्र अशुभ ही हैं ! जैसे N1 वाले दुश्मनों से ही परेशान रहेंगे ! नए नए दुश्मन पैदा होंगे ! जान का खतरा बम रहेगा,दुश्मन हमले करवाएंगे ! N2 - बुरी नज़र औऱ ईर्ष्या से हानि ! N6 - घर वालों के व्यवहार विचियर से होंगे ! लोग उनसे दूरियां बना लेते हैं ! N7- इन घरों की लड़कियां परंपराओं से परे हो जाती हैं ! माँ बाप से दूरी और गलत संगत में पड़ सकती हैं तथा ज्यादातर विजातीय विवाह कर लेती हैं जो टूट जाती हैं ! 4-दक्षिण S2- ऐसे घरों वाले व्यापार से दूर रहें पर मल्टीनेशनल कंपनीज़ में काम करने वालों के लिए जबरदस्त फायदेमंद ! S3-अत्यंत प्रभावशाली होते हैं ऐसे घरों में रहने वाले लोग ! सफलता के लिए अच्छा बुरा सब करते हैं और जीवन मे खूब सफल होते हैं ! S4- ऐसे घरों में पुरुष संताने ही ज्यादा जन्म लेती हैं ! इंडस्ट्री फैक्ट्रीज में काम करने वालों के लिए खूब अनुकूल ! इन तीन दिशा क्षेत्रों के अलावा शेष अशुभ ही हैं ! जैसे S1 क्षेत्र वाले घरों में 14 साल से कम आयु के पुरुष संतानों के बिगड़ने या deviant व्यवहार करने की संभावनाएं ज्यादा रहती है ! ड्रग्स या शराब की लत लग सकती है ! माता पिता से कम निभती है ! S5- कर्ज से लदा होता है ये घर ! कर्ज से छुटकारा ही नहीं मिलता ! भवन निवासी अपने विवेक का प्रयोग उचित रूपसे नहीं कर पाते हैं ! S6- ऐसे भवन इतने अशुभ होते हैं कि नुकसान और हानियों की वजह से ऐसे भवन बिक तक जाते हैं ! S8- जीवन पर खतरा, धन तथा संबंधों की हानि ! ऐसा व्यक्ति अपने खानदान या रिश्तेदारों से पूरी तरह कट जाता है !  ऊपर लिखे विवरण को ऐसे ही आंखें मूंद कर ना माने ! अपने आसपास और दूरदराज के भवनों के मुख्य द्वारों को देखें और परीक्षण करें ! सुशील कुमार सिंह (ज्योतिष सदन फ़ैज़ाबाद(अयोध्या) Whatsapp 9125000013, Phone - 7985517269 www.astrosushil.com , This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.  
W3 - खूब विकास एवं साम्पन्नता का कारक,अविश्वसनीय सफलता एवं समृद्धि ! W4- ना लाभ ना हानि,संतुष्ट जीवन ! उपरोक्त के अतिरिक्त शेष 6 जोन बिल्कुल भी शुभ नहीं हैं ! जैसे W6 में जबरदस्त डिप्रेशन, W1 में आयु एवं धन की कमी ! इन सब समस्याओं के कुछ उपास्य भी हैं ! www.astrosushil.com , Whatsapp - 9125000013 , Contact - 7985517269  MIG,37 कौशलपुरी फेज 1, फ़ैज़ाबाद ज्योतिष सदन फ़ैज़ाबाद (अयोध्या) का प्रारंभ नवरात्रि 2018 से !
2018  भाजपा के लिए खराब है परंतु 03 फवरी 19 से वह लाभेष और षष्टेश मंगल की दशा में होगी जोकि पराक्रम और संचार की दशा है में होगी ! हालांकि यह मंगल कई ग्रहों के साथ बैठ कर महादशा नाथ नीच के चंद्र पर दृष्टि डाले हुए हैं !  तो अनेक समस्याओं का सामना भी करना पड़ेगा ! कई लोग खफा होंगे , पार्टी गठबंधन तक छोड़ेंगे पर इन सबके बावजूद पार्टी वर्तमान समय की तुलना में फवरी 2019 से लाभ की स्थिति में रहेगी ! www.astrosushil.com , 798517269, Whatsapp -Astro Sushil - 9125000013 !  "ज्योतिष सदन" फ़ैज़ाबाद (अयोध्या) का शुभारंभ नवरात्रि 2018 से, जे.बी पुरम,निकट ज.बी सिंह लॉन , माया नर्सरी, दक्षिण मोदहा  फ़ैज़ाबाद
E3- बहुत ही शुभ,खूब लाभ,जबरदस्त धनागम तथा लाभ ही लाभ ! E4- ऐसों घरों के लोगों को सरकार/सरकारी अधिकारियों से खूब लाभ होता है ! धन प्राप्ति का भी कारक है ! पूर्व दिशा में 8 में से सिर्फ यही 2 क्षेत्र शुभ है ! बाकी में यदि आप का में गेट है तो फिर आप स्वयं अनुभव कर सकते हैं ! जैसे SE क्षेत्र में फिजूल खर्चे बहुत होंगे और ज्यादातर कन्या संतानें ही पैदा होंगी ! इसके अलावा बाकी सभी 5 दिशायें हर तरह से प्रतिकूल ही हैं ! सबसे खराब E8 है ! यहां का द्वार चोरी, गंभीर दुर्घटनाओं नुकसान खासकर निवेश या शेयर में ! www.astrosushil.com , Whatsapp - 9125000013 , Contact - 7985517269  ज्योतिष सदन फ़ैज़ाबाद (अयोध्या) का प्रारंभ नवरात्रि 2018 से !
कुछ लोगों ने यह धारणा बनाई और वह फैल गयी कि उत्तर-पश्चिम(NW) क्षेत्र में बेटी सोएगी तो विवाह समय पर हो जाएगा ! दरअसल ऐसी स्थितियों में दिशाओं के सही ज्ञान ना होने के कारण बच्चियां "सेक्स और आकर्षण" के क्षेत्र उत्तर-उत्तर -पश्चिम में सोती हैं और नतीजा लड़कियों ने गलत फैसले किये और शादियां सफल नहीं हुईं !  कहाँ सोएं बेटियाँ कि समय पर और उचित व्यक्ति के साथ हो शादी -  दक्षिण(S),दक्षिण-दक्षिण-पूर्व(SSE),दक्षिण-पश्चिम (SW) या पश्चिम -दक्षिण-पश्चिम(WSW) ! सुशील कुमार सिंह ("ज्योतिष सदन" जे.बी पुरम निकट जे.बी लॉन फ़ैज़ाबाद का शुभारंभ इस नवरात्रि में)7985517269 , Whatsapp- 9125000013    Astrologer Sushil Kumaar Singh is an internationally acclaimed Vedic Astrologer, recognized for his accurate predictions.  His astrology services include Life Reading, Career Report, Detailed Kundali Matching, Match Making, Health Report, Business Report, Finance Report, Love Chemistry Report and more. BOOK AQUICK ANSWER IN 2-3 HOURS OR A PHONE CONSULTATION WITH ASTROLOGER SUSHIL KUMAAR SINGH. FOR IMMEDIATE RESPONSE PLEASE FEEL FREE TO CONTACT HIM ON THE FOLLOWING NUMBERS (91-7985517269  WHAPP 9125000013    
Page 1 of 29

Love And Relationships

General Astrology Predictions

  • 1
  • 2
  • 3
  • 4
  • 5
  • 6
  • 7
  • 8
  • 9
  • 10
Prev Next

Clovia CPS

Zivame IN

Political And Celebrity Predictions

  • 1
  • 2
  • 3
  • 4
  • 5
  • 6
  • 7
  • 8
  • 9
  • 10
Prev Next

Career, Business And Money

Nykaa CPA

Palmistry And Other Than Astrology